National Park of Gujarat

Important National Park of Gujarat ।

गुजरात के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान


गुजरात, पश्चिम भारत का एक प्रमुख राज्य है यह राज्य अपनी जीवंत संस्कृति के विकास, आर्थिक समृद्धि और प्राकृतिक परिदृश्य के अलावा कुछ प्रमुख लुप्तप्राय वन्यजीव प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है।
 
गुजरात राज्य रण के शुष्क क्षेत्रों से लेकर नम घास के मैदानों और तटीय तटों तक पूर्व रियासत को छूते हुए , विविध वनस्पतियों और जीवों की भूमि है । राज्य की गतिशीलता के साथ , गुजरात राज्य को एशियाई शेरों , जंगली गैंडो और ब्लैकबक्स सहित कई दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों का घर माना जाता है।

गुजरात राज्य को एशियाई शेरों का एकमात्र घर माना जाता है इसके साथ ही गुजरात राज्य को कई प्रकार के वन्यजीवो और प्रकृति के प्रेमियों के लिए एक तीर्थस्थल माना जाता है और यह राज्य विभिन्न प्रकार के जानवरों की प्रजाति को एक राजसी श्रृंखला प्रदान करता है जिसका सौंदर्य यहां के राष्ट्रीय उद्यानों एवं वन्य जीव अभयारण्यों में देखने को मिलता है इस पोस्ट में गुजरात के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान के बारे में जानकारी दी गई है इसलिए इसे अंत तक जरूर पढ़ें।


गुजरात के 5 प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान से संबंधित जानकारी -


1. गिर राष्ट्रीय उद्यान ( Gir National Park ) :- 

गिर राष्ट्रीय उद्यान गुजरात के जूनागढ़ जिले में स्थित है गिर राष्ट्रीय उद्यान स्थापना वर्ष 1965 में की गई थी यह राष्ट्रीय उद्यान लगभग 1412 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस राष्ट्रीय उद्यान में वनस्पतियों और जीवों की कुछ दुर्लभ प्रजातियों के निवास करती है गिर राष्ट्रीय उद्यान के क्षेत्र को लगभग सात नदियाँ पार करती हैं और इस गिर राष्ट्रीय उद्यान के जंगल में लगभग चार बाँध हैं जो चार नदियों पर स्थित हैं यह राष्ट्रीय उद्यान एक वन क्षेत्र होने के कारण इसे सासन- गिर या गिर वन राष्ट्रीय उद्यान के नाम से भी जाना जाता है।

गिर राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले वन्यजीव :- 

गिर राष्ट्रीय उद्यान एशियाई शेरों के शाही निवास के लिए प्रसिद्ध है इसके साथ ही यह राष्ट्रीय उद्यान कई प्रकार के वन्यजीवों के लिए एक आदर्श स्थान है। इस राष्ट्रीय उद्यान में सांभर , चारसिंघा , नीलगाय , पैंगोलिन जैसे विभिन्न प्रकार के स्तनधारियों को प्रचुर मात्रा में इस राष्ट्रीय उद्यान के जंगलों में आश्रय मिलता है । 
क्रेस्टेड हॉक ईगल , इंडियन ईगल उल्लू , पिग्मी वुडपेकर , ललैक हेडेड ओरिओल , रॉक बुश - ववेल और इंडियन पित्त जैसे अनेक प्रकार के पक्षियों की प्रजातियां इस राष्ट्रीय उद्यान में निवास करते हैं।


2. ब्लैकबक राष्ट्रीय उद्यान ( Blackbuck National Park ) :-

ब्लैकबक राष्ट्रीय उद्यान या भावनगर ब्लैकबक राष्ट्रीय उद्यान गुजरात के भावनगर जिले में स्थित है यह राष्ट्रीय उद्यान 34 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है । इस राष्ट्रीय उद्यान का प्रमुख क्षेत्र एक अर्ध - शुष्क क्षेत्र है इस राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना वर्ष 1976 में की गई थी।

ब्लैकबक राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले वन्यजीव :-

यह राष्ट्रीय उद्यान काले हिरण के संरक्षण के लिए जाना जाता है इसके साथ ही इस राष्ट्रीय उद्यान में कई दुर्लभ प्रजातियों के जीव निवास करते हैं । इस राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य में भेड़िये , धारीदार लकड़बग्घा , कम फ्लोरिकन , सियार , जंगली सूअर और जंगली बिल्लियाँ आदि निवास करते हैं । 


3. वंसदा राष्ट्रीय उद्यान ( Vansda National Park ) :- 

वंसदा राष्ट्रीय उद्यान गुजरात के नवसारी जिले में स्थित है यह राष्ट्रीय उद्यान गुजरात के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है इस राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना वर्ष 1979 में की गई थी तथा यह राष्ट्रीय उद्यान लगभग 24 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है इस राष्ट्रीय उद्यान का नाम वंसदा इसलिए रखा गया क्योंकि यह राष्ट्रीय उद्यान सर्वप्रथम वंसदा के महाराज के निजी स्वामित्व में था।

वंसदा राष्ट्रीय उद्यान अपने वनस्पतियों , जीवों और उभयचरों की प्रचुर मात्रा के लिए जाना जाता है।


वंसदा राष्ट्रीय उद्यान पाए जाने वाले वन्यजीव :- 

इस राष्ट्रीय उद्यान में वनस्पति और जीवों की सैकड़ों प्रजातियां पाई जाती है जिसकी प्रकृति में एक अलग ही पहचान है लकड़बग्घा , चौसिंघा , चित्तदार हिरण और तेंदुए इस राष्ट्रीय उद्यान के प्रमुख निवासी हैं । लुप्तप्राय विशालकाय भारतीय गिलहरी भी इस राष्ट्रीय उद्यान में देखने को मिलते है इसके अलावा भोकने वाले हिरण, जंगली चित्तीदार बिल्ली , उड़ने वाली गिलहरी , आम ताड़ की सिवेट और जंगली बिल्लियाँ भी इस राष्ट्रीय उद्यान के जंगलों में निवास करते हैं अजगर भी आमतौर पर यहां घूमते हुए पाए जाते हैं । इस राष्ट्रीय उद्यान के क्षेत्र में चित्तीदार उल्लू , मालाबार ट्रोगन , पीले रंग का सनबर्ड और महान भारतीय काला कठफोड़वा जैसे पक्षी भी इस राष्ट्रीय उद्यान में निवास करते है ।


4. भारतीय जंगली गधा अभयारण्य :- 

भारतीय जंगली गधा अभयारण्य ,भारत का सबसे बड़ा वन्यजीव अभयारण्य है यह अभयारण्य कच्छ के छोटे रण में 4954 वर्ग किलोमीटर के विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है इस अभयारण्य की स्थापना वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत वर्ष 1972 में की गई थी यह अभयारण्य घुड़खर यानि जंगली गधा के लिए प्रसिद्ध है।
खुर या भारतीय जंगली गधे इस जगह की संरक्षित प्रजाति हैं यह प्रजाति उन प्राणियों की श्रेणी में है जो वर्तमान में लुप्तप्राय है इसी कारण घुड़खर को भारत सरकार द्वारा वन पशु सुरक्षा अधिनियम, 1972 के तहत पहली सूची में रखा गया है।

जंगली गधा अभ्यारण में पाए जाने वाले वन्यजीव :-

कच्छ के निर्जन क्षेत्र में फैले भारतीय जंगली गधा अभयारण्य में चिंकारा , पानी के पक्षी के बस्टर्ड , ब्लैकबक , लोमड़ी और भेड़िया भी निवास करते है । यह अभयारण्य विश्व स्तर पर खुरों की सबसे बड़ी आबादी का निवास करती है । 


5. मरीन राष्ट्रीय उद्यान ( Marine National Park ) :-

मरीन राष्ट्रीय उद्यान गुजरात के जामनगर जिले में  लगभग 162 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह अनोखा राष्ट्रीय उद्यान कच्छ की खाड़ी में स्थित है वर्ष 1980 में यहां के 270 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को समुद्री अभयारण्य घोषित किया गया था लेकिन वर्ष 1982 में वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत यहां के 110 किलो किलोमीटर के क्षेत्र को समुद्री राष्ट्रीय उद्यान के रूप में घोषित किया गया।

मरीन राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले वन्यजीव :-

इस समुद्री राष्ट्रीय उद्यान में स्पंज , जली फिश , कोरल , ऑक्टोपस , लॉबस्टर , डॉल्फिन और पर्ल सीप की  प्रमुख प्रजातियां निवास करती हैं जिसमें से इस राष्ट्रीय उद्यान में स्पंज की 70 प्रजातियां कोरल की 52 प्रजातियां और पक्षियों की लगभग 90 प्रजातियां पाई जाती है। प्रवाल भित्तियों से घिरे इस राष्ट्रीय उद्यान में 42 द्वीप स्थित है जिसमें से समुद्री जीवन और राष्ट्रीय उद्यान का आनंद लेने के लिए पिरोटीन यहां का प्रसिद्ध द्वीप है।


इन्हें भी पढ़ें :- 






एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Featured Post

SSC GD General Science Question and answer in Hindi 2021