Major River of India in Hindi । भारत की प्रमुख नदियां

Major River of India in Hindi । भारत की प्रमुख नदियां

भारत को नदियों का देश माना जाता है इन्ही नदियों के कारण भारत एक कृषि प्रधान देश है। भारत में नदियों को देवी का दर्जा दिया जाता है। इन्हीं नदियों के कारण भारत के प्राय लोगों का जीवन सुख और समृद्धि से संपन्न है क्योंकि इन नदियों की वजह से हमें खेती का कार्य करने में आसानी होती है और यह नदियां भारत के क‌ई लोगों के आय का स्रोत भी है। 


भारत की प्रमुख नदी प्रणाली :-

भारत में मुख्य चार प्रकार की नदी प्रणाली पाई जाती है भारत की सभी नदियों को चार समूहों में वर्गीकृत किया गया है यह चार समूह निम्नलिखित है –

  • हिमालय से निकलने वाली नदियां
  • दक्षिण से निकलने वाली नदियां
  • तटवर्ती नदियां
  • अंतर्देशीय नालों से निकलने वाली द्रोणी क्षेत्र की नदियां


भारत की 30 प्रमुख नदियां उनकी लंबाई और उनकी सहायक नदियां ( 30 Major River of India in Hindi )


1. गंगा नदी 

गंगा नदी भारत की सबसे लंबी नदी है इस नदी की कुल लंबाई 2525 कि.मी. है जिसमें से भारत में इसकी लंबाई 2071 है तथा इसका शेष भाग बांग्लादेश में है भारत में सतोपथ हिमानी से निकली अलकनंदा नदी और गढ़वाल हिमालय की गोमुख से निकली भागीरथी नदी जल देवप्रयाग में मिलती है इन दोनों नदियों के संयुक्त रूप को ही गंगा नदी के नाम से जाना जाता है अलकनंदा नदी की दो प्रमुख सहायक नदियां पिंडार नदी और मंदाकिनी नदी है।

उत्तराखंड से निकली गंगा उत्तर प्रदेश और बिहार होते हुए पश्चिम बंगाल में प्रवेश करती है पश्चिम बंगाल के फरक्का में यह नदी दो धाराओं हुगली और मुख्य धारा भागीरथी में बॅंट जाती है।

जिसमें से भागीरथी नदी बांग्लादेश में मुख्यधारा के रूप में प्रवेश करती है जहां इसे पद्मा के नाम से जाना जाता है आगे बहती हुई यह ब्रह्मपुत्र नदी में मिल जाती है ब्रह्मपुत्र नदी को बांग्लादेश में जमुना के नाम से जाना जाता है गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी के संयुक्त रूप को ही बांग्लादेश में मेघना के नाम से जाना जाता है और अंत में यह बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है।


गंगा नदी की सहायक नदियां :-  कोसी नदी, सोन नदी, गोमती नदी, यमुना नदी, दामोदर नदी, घाघरा(सरयू) नदी, गंडक नदी और रामगंगा नदी गंगा नदी की प्रमुख सहायक नदियां है।


2. यमुना नदी 

यमुना नदी गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है इस नदी का उद्गम उत्तराखंड के बंदरपूंछ चोटी पर स्थित यमुनोत्री हिमानी से हुआ है यह नदी उत्तराखंड से हरियाणा और फिर दिल्ली, उत्तर प्रदेश से बहते हुए प्रयागराज में गंगा नदी में जाकर मिल जाती है। यमुना नदी का प्राचीन नाम कालिंदी नदी है। 

चंबल नदी, बेतवा नदी और केन नदी यमुना नदी की प्रमुख सहायक नदियां है।

यमुना नदी की लंबाई – 1376 कि.मी. 

3. ब्रह्मपुत्र नदी 

ब्रह्मपुत्र नदी का उद्गम तिब्बत के मानसरोवर झील के निकट से होता है। यह नदी तिब्बत, भारत और बांग्लादेश से होकर बहती है तिब्बत से निकलने वाली इस नदी को तिब्बत में यरलुंग त्संग्पो के नाम से जाना जाता है तिब्बत से बहते हुए यह नदी अरुणाचल प्रदेश में प्रवेश करती है अरुणाचल प्रदेश में इसे दिहांग के नाम से जाना जाता है। जब यह नदी भारत के असम घाटी में प्रवेश करती है तब इसे ब्रह्मपुत्र के नाम से जाना जाता है इस नदी में ही विश्व की सबसे बड़ी नदी द्वीप माजुली द्वीप स्थित है जो कि असम राज्य में है। बंगलादेश में प्रवेश करते ही इस नदी को जमुना के नाम से जाना जाता है बांग्लादेश में यह पद्मा(गंगा) नदी के साथ मिल जाती है इन दोनों नदियों के संगम के बाद इसे मेघना के नाम से जाना जाता है। उसके बाद यह नदी विश्व की सबसे बड़ा नदी डेल्टा सुंदरवन डेल्टा का निर्माण करते हुए बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। 

तीस्ता नदी, कमिंग नदी, मानस नदी, सुवनसिरि नदी, लोहित नदी, बराक नदी और कपिली नदी ब्रह्मपुत्र नदी की प्रमुख सहायक नदियां है।


4. सिंधु नदी 

सिंधु नदी का उद्गम चीन के तिब्बत स्थित मानसरोवर झील के निकट से होता है इसकी कुल लंबाई 2880 किलोमीटर है सिंधु नदी 3 देशों चीन, भारत और पाकिस्तान से होकर बहती है मानसरोवर झील से पश्चिम दिशा में बहती हुई ये नदी भारत के लद्दाख के दमचौक के पास से भारत में प्रवेश करती है आगे बहते हुए यह नदी गिलगित से होते हुए पाकिस्तान के में प्रवेश करती है और कराची के पूर्व से होते हुए अरब सागर में मिल जाती है। 

चिनाब, झेलम, रावी, व्यास और सतलज नदी सिंधु नदी की प्रमुख सहायक नदियां है।


5. घाघरा नदी

घाघरा नदी गंगा नदी की एक प्रमुख सहायक नदी है घाघरा नदी एक बारहमासी नदी है जो तिब्बत के मानसरोवर झील के निकट से निकलती है यहां से निकलने के बाद यह नदी नेपाल में प्रवेश करती है और नेपाल के करनाली में हिमालय से बहते हुए भारत में प्रवेश करती है ब्रह्म घाट में शारदा नदी में मिल जाती है यह नेपाल की सबसे लंबी नदी है नेपाल में इसकी लंबाई 507 किलोमीटर है नेपाल में इस नदी को करनाली भी कहते है बिहार के रेवेलगंज में यह नदी गंगा नदी के साथ मिल जाती है 1080 किलोमीटर की दूरी तय करती है आयतन के हिसाब से घाघरा नदी गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है।

6. चिनाब नदी 

चिनाब नदी सिंधु नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है इस नदी की कुल लंबाई लगभग 960 किमी है। इस नदी का उद्गम हिमाचल प्रदेश के K12 लारा दर्रे से होता है इस नदी का निर्माण दो नदियों चंद्रा और भागा नदी से होता है इसलिए इस नदी को चंद्रभागा के नाम से भी जाना जाता है यह नदी पूर्व में जाकर सिंधु नदी में मिल जाती है सिंधु नदी में मिलने से पहले इसमें झेलम, रावी, सतलज और व्यास नदी आकर मिलती है।

7. झेलम नदी 

झेलम नदी का उद्गम कश्मीर घाटी के बैरीनग के निकट एक झरने से होता है झेलम नदी की कुल लंबाई 725 कि.मी. है यह नदी 170 किमी तक भारत-पाक सीमा का निर्माण करते हुए पाकिस्तान के झांग प्रांत के निकट चिनाब नदी में मिल जाती है।


8. रावी नदी 

इस नदी का उद्गम हिमाचल प्रदेश के रोहतांग दर्रे से हुआ है रावी नदी की कुल लंबाई 720 कि.मी. है यह नदी हिमाचल प्रदेश से कश्मीर और फिर पंजाब होते हुए पाकिस्तान के झांग प्रांत में चिनाब नदी में मिल जाती है।

9. सतलज नदी 

यह नदी तिब्बत के मानसरोवर स्थित राक्षस ताल से निकलती है सिंधु नदी के समानांतर बहती हुई यह नदी हिमाचल प्रदेश में प्रवेश करती है आगे पंजाब होते हुए पाकिस्तान के बहावलपुर में चिनाब नदी में जाकर मिल जाती है चिनाब नदी में मिलने से पूर्व यह नदी व्यास नदी में आकर मिलती है।

सतलज नदी की लंबाई :- 1450 कि.मी.


10. बनास नदी 

बनास नदी राजस्थान राज्य की एक प्रमुख नदी है जिसका संपूर्ण बहाव क्षेत्र राजस्थान के अंदर ही है यह नदी पूर्ण रूप से राजस्थान राज्य में ही बहती है यह चंबल नदी की एक प्रमुख सहायक नदी है यह नदी राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित वैरो का मठ नामक स्थान से निकलती है यहां से पूर्व की ओर बहते हुए यह राजस्थान और मध्य प्रदेश की सीमा पर बहते हुए यह नदी राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के रामेश्वर में चंबल नदी के साथ मिल जाती है बनास नदी की कुल लंबाई 512 किलोमीटर है।

11. रामगंगा नदी 

रामगंगा नदी भारत के उत्तराखंड राज्य की प्रमुख नदी है इस नदी का उद्गम उत्तराखंड राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले के दुधातोली पहाड़ी से होता है इस नदी का उल्लेख पौराणिक ग्रंथों में भी किया गया है स्कंदपुराण में इस नदी का उल्लेख किया गया है स्कंदपुराण में इस नदी को रथवाहिनी कहा गया है विभिन्न क्षेत्रों से बहते हुए यह नदी लगभग 596 किलोमीटर की दूरी तय करती है और अंत में कन्नोज के समीप गंगा नदी में मिल जाती है।


12. व्यास नदी 

यह नदी हिमाचल प्रदेश के रोहतांग दर्रे से निकलती है व्यास नदी की कुल लंबाई 470 कि.मी. है हिमाचल प्रदेश के कुल्लू घाटी में बहते हुए यह नदी पंजाब के हरिके मे सतलज नदी में मिल जाती है। यहीं से देश की सबसे लंबी नहर इंदिरा गांधी नहर निकलती है जो पंजाब और राजस्थान से होकर गुजरती है पाकिस्तान के बहावलपुर में जब सतलाज नदी चिनाब नदी से मिल जाती है तब ये चिनाब नदी से मिलकर पंचानंद नदी का निर्माण करती है।


13. चंबल नदी 

यह नदी मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित महू क्षेत्र के जानापाव पर्वत से निकलती है। चंबल नदी की लंबाई 965 कि.मी. है। उत्तर में बहते हुए यह नदी राजस्थान से होकर उत्तर प्रदेश के इटावा में यमुना नदी में मिल जाती है।


पढ़िए भारत के प्रमुख झीलों के बारे में(  Famous Lake of India )


14. बेतवा नदी 

इस नदी का उद्गम मध्य प्रदेश के विध्यांचल पर्वत के मध्य स्थित झिरी नामक स्थान से होता है बेतवा नदी की कुल लंबाई 590 कि.मी. है। उत्तर पूर्व दिशा में बहते हुए यह नदी उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में यमुना नदी में मिल जाती है।


15. कौसी नदी 

यह नदी नेपाल में हिमालय से निकलती है और बिहार में प्रवेश करती है तथा बिहार के कटिहार में यह नदी गंगा नदी से मिल जाती है। इस नदी को बिहार का शोक कहा जाता है क्योंकि इस नदी में समय-समय पर आने बाढ़ के कारण लोगों की फसलें बर्बाद हो जाती है क‌ई लोगों की घरे क्षतिग्रस्त हो जाती है।

कौसी नदी की लंबाई – 729 कि.मी. 


16. दामोदर नदी 

इस नदी का उद्गम झारखंड के छोटा नागपुर पठार से होता है वहां से पश्चिम में बहते हुए यह नदी हुगली नदी में मिल जाती है इस नदी में वर्षा के मौसम में अचानक आने वाली बाढ़ के कारण इस नदी को बंगाल का शोक कहा जाता है। 

दामोदर नदी की लंबाई – 592 कि.मी. 

17. गोमती नदी 

इस नदी का उद्गम उत्तर प्रदेश के पीलभीत स्थित गोमेतताल स्थल से हुआ है। यह नदी  गंगा नदी की एकमात्र ऐसी सहायक नदी है जिसका उद्गम मैदानी इलाके से हुआ है। गोमती नदी की लंबाई 495 कि.मी. है।

18. ब्राह्मणी नदी 

ब्राह्मणी नदी भारत के उड़ीसा राज्य की एक प्रमुख नदी है इस नदी का उद्गम दुमका जिले के नगरी गांव के समीप दुधवा पहाड़ी से होता है यह नदी झारखंड, उड़ीसा और छत्तीसगढ़ में बहती है मुख्य रूप से यह उड़ीसा में बहती है उड़ीसा के सुंदरगढ़, ढेंकनाल, कटक, और केंद्रपाड़ा से होकर बहते 799 किमी की दूरी तय करते हुए यह नदी बैतरणी नदी के साथ मिलकर एक बड़ी डेल्टा का निर्माण करती है और अंत में यह बंगल की खाड़ी में गिर जाती है।



19. सोन नदी 

इस नदी का उद्गम मध्य प्रदेश के अमरकंटक नामक स्थान से हुआ है जो उत्तर की ओर बहते हुए बिहार के पटना के निकट गंगा नदी में मिल जाती है। सोन नदी की कुल लंबाई 784 कि.मी. है।


20. नर्मदा नदी  

इस नदी का उद्गम मध्य प्रदेश के अमरकंटक से होता है वहां से पश्चिम की ओर बहती हुए 1312 क.मी. की दूरी करके यह नदी खंभात की खाड़ी में बहते हुए अरब सागर में मिल जाती है। नर्मदा नदी मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी नदी है इस नदी को मध्य प्रदेश की जीवन रेखा कहा जाता है। ओरसंग नदी, तवा नदी और रौ नदी नर्मदा नदी की प्रमुख सहायक नदियां है। 

नर्मदा नदी की लंबाई – 1312 कि.मी.


21. ताप्ती नदी  

यह नदी मध्य प्रदेश के बैतूल जिले के निकट सतपुड़ा पहाड़ियों से निकलती है यह नदी मध्य प्रदेश से महाराष्ट्र और फिर गुजरात से बहते हुए अरब सागर में मिल जाती है। इस नदी की कुल लंबाई 724 कि.मी. है।


22. माही नदी 

इस नदी का उदगम मध्य प्रदेश के विद्यांचल पर्वत श्रेणी से हुआ है। मध्य प्रदेश से राजस्थान और फिर गुजरात से बहते हुए यह नदी खंभात की खाड़ी में गिरती है यह नदी भारत की एकमात्र ऐसी नदी है जो कर्क रेखा को दो बार काटती है। माही नदी की कुल लंबाई 583 कि.मी. है।


23. गोदावरी नदी 

यह नदी महाराष्ट्र के नासिक जिले के त्रयंबकेश्वर से निकलती है और दक्षिण-पूर्व की ओर बहते हुए बंगाल की खाड़ी में गिरती है गोदावरी नदी प्रायद्वीपीय भारत की सबसे लंबी नदी है इस नदी की कुल लंबाई 1465 कि.मी. है। वैनगंगा नदी, इंद्रावती नदी प्राणहिता नदी गोदावरी नदी की प्रमुख सहायक नदियां है।


24. कृष्णा नदी 

इस नदी का उद्गम महाराष्ट्र के महाबलेश्वर से होता है यह नदी दक्षिण भारत की दूसरी सबसे लंबी नदी है इस नदी की लंबाई 1400 कि.मी. है। महाराष्ट्र से होते हुए यह नदी बंगाल की खाड़ी में गिर जाती है। तुंगभद्रा नदी कोयना नदी और भीमा नदी कृष्णा नदी की तीन प्रमुख सहायक नदियां है।


25. महानदी 

इस नदी का उद्गम छत्तीसगढ़ के रायपुर के निकट सिहावा पहाड़ी से हुआ है यह नदी आगे पूर्व की ओर बहते हुए उड़ीसा में प्रवेश करती है और डेल्टा का निर्माण करते हुए बंगाल की खाड़ी में गिर जाती है यह नदी छत्तीसगढ़ और उड़ीसा की प्रमुख नदियों में से एक है। महानदी की कुल लंबाई 858 कि.मी. है तेल नदी और जोंक नदी महानदी की दो प्रमुख सहायक नदियां है।


26. कावेरी नदी 

यह नदी कर्नाटक के पूर्व के ब्रह्मगिरि पहाड़ियों से निकलती है और कर्नाटक से तमिलनाडु होते हुए तिरुचिरापल्ली के निकट बंगाल की खाड़ी में गिर जाती है कावेरी नदी को दक्षिण भारत की गंगा के नाम से जाना जाता है इस नदी की कुल लंबाई 800 कि.मी. है।


27. स्वर्णरेखा नदी 

यह नदी झारखंड में बहने वाली एक पहाड़ी नदी है इस नदी का उद्गम झारखंड की राजधानी रांची के निकट छोटा नागपुर पठार से होता है और पश्चिम बंगाल से उड़ीसा होते हुए बंगाल की खाड़ी में गिर जाती है। 

स्वर्णरेखा नदी की लंबाई – 474 कि.मी.


28. लूनी नदी 

लूनी नदी का उद्गम अजमेर के अरावली पहाड़ियों के निकट नाग नामक पहाड़ से हुआ है यह नदी राजस्थान से होते हुए गुजरात में प्रवेश करती है गुजरात के कच्छ में यह नदी विलुप्त हो जाती है। इस नदी को ‘साल्ट रिवर’ के नाम से जाना जाता है।


29. काली नदी 

यह नदी हिमालय स्थित कालापानी नामक स्थान से निकलती है इस नदी को शारदा और काली गंगा के नाम से भी जाना जाता है उत्तराखंड से होते हुए यह नदी उत्तर प्रदेश में प्रवेश करती है और उत्तर प्रदेश में यह नदी घाघरा नदी के साथ मिल जाती है काली नदी नेपाल और भारत के बीच अंतर्राष्ट्रीय सीमा बनाती है इस नदी की लंबाई 184 कि.मी. है।


30. पेन्ना नदी 

पेन्ना नदी भारत की प्रमुख नदियों में से एक है यह नदी कर्नाटक के नन्ददुर्ग पहाड़ी से निकलती है तथा पूर्व की ओर बहते हुए यह बंगाल की खाड़ी में गिरती है। पेन्ना नदी की लंबाई 597 कि.मी. है।


List of 50 Major River of India in Hindi ( भारत के 50 प्रमुख नदियों की सूची एवं उनकी लंबाई और उद्गम स्थल )


क्र. सं.

नदी

लंबाई

उद्गम स्थल

1.

गंगा नदी

2525 कि.मी.

गंगोत्री ग्लेशियर, उत्तराखंड

2.

ब्रह्मपुत्र नदी

3848 कि.मी.

तिब्बत के मानसरोवर झील के निकट

3.

सिंधु नदी

2880 कि.मी.

तिब्बत स्थित मानसरोवर झील के निकट

4.

यमुना नदी

1376 कि.मी

बंदरपूंछ चोटी पर स्थित यमुनोत्री हिमानी, उत्तराखंड

5.

घाघरा नदी

1080 कि.मी.

दक्षिण तिब्बत हिमालय

6.

चिनाब नदी

960 कि.मी.

K12 लारा दर्रा, हिमाचल प्रदेश

7.

झेलम नदी

725 कि.मी.

कश्मीर घाटी का बैरीनाग 

8.

रावी नदी

720 कि.मी.

रोहतांग दर्रा, हिमाचल प्रदेश

9.

सतलज नदी

1450 कि.मी.

राक्षस ताल, तिब्बत

10.

व्यास नदी

470 कि.मी.

रोहतांग दर्रा, हिमाचल प्रदेश

11.

चंबल नदी

965 कि.मी.

जानापाव पर्वत, इंदौर

12.

बेतवा नदी

590 कि.मी.

विन्ध्याचल पर्वत श्रृंखला, मध्यप्रदेश

13.

कौसी नदी

729 कि.मी.

हिमालय का सप्तकौशिकी, नेपाल

14.

दामोदर नदी

592 कि.मी.

छोटा नागपुर पठार, झारखंड

15.

गोमती नदी

495 कि.मी.

गोमेतताल, उत्तर प्रदेश

16.

सोन नदी

784 कि.मी.

अमरकंटक, मध्य प्रदेश

17.

नर्मदा नदी

1312 क.मी.

अमरकंटक, मध्य प्रदेश

18.

ताप्ती नदी 

724 कि.मी.

सतपुड़ा पहाड़ी, मध्य प्रदेश

19.

माही नदी

583 कि.मी. 

विद्यांचल पर्वत श्रेणी, मध्य प्रदेश

20.

गोदावरी नदी

1465 कि.मी.

नासिक का त्रयंबकेश्वर, महाराष्ट्र

21.

कृष्णा नदी

1400 कि.मी.

महाबलेश्वर, महाराष्ट्र

22.

महानदी

858 कि.मी.

सिहावा पहाड़ी, छत्तीसगढ़

23.

कावेरी नदी

800 कि.मी.

ब्रह्मगिरि पहाड़ी, कर्नाटक

24.

स्वर्णरेखा नदी

474 कि.मी.

छोटा नागपुर पठार, रांची

25.

लूनी नदी

495 कि.मी.

अरावली पहाड़ियों के निकट नाग पहाड़ , अजमेर

26.

काली नदी

184 कि.मी.

हिमालय के कालापानी नामक स्थल से

27.

पेन्ना नदी

597 कि.मी.

नन्ददुर्ग पहाड़ी, कर्नाटक

28.

घग्घर नदी

320 कि.मी.

शिवालिक की पहाड़ी

29.

भागीरथी नदी

205 कि.मी.

गंगोत्री ग्लेशियर, उत्तराखंड

30.

तुंगभद्रा नदी

531 कि.मी.

गंगामूल, कर्नाटक

31.

अलकनंदा नदी

195 कि.मी.

सतोपंथ हिमनद, उत्तराखंड

32.

साबरमती नदी

371 कि.मी.

अरावली पर्वतमाला, उदयपुर

33.

भीमा नदी

861 कि.मी.

भीमशंकर पहाड़ियां, महाराष्ट्र

34.

तीस्ता नदी

414 कि.मी.

पाहुनी ग्लेशियर, सिक्किम

35.

रामगंगा नदी

596 कि.मी.

दुधातोली पहाड़ी, उत्तराखंड

36.

श्योक नदी

550 कि.मी.

रियो हिमानी

37.

ब्राह्मणी नदी

799 कि.मी.

दुधवा पहाड़ी, झारखंड

38.

वैगई नदी

258 कि.मी. 

वरुसुनाडु पहाड़ियां, तमिलनाडु

39.

पद्मा नदी

120 कि.मी.

40.

अजय नदी

288 कि.मी.

निचली पहाड़ियाँ, देवघर

41.

बनास नदी

512 कि.मी

खमनोर की पहाड़ी, राजस्थान

42.

मेघना नदी

264 कि.मी.

उत्तरी पर्वतमाला, मणिपुर

43.

टोंस नदी

150 कि.मी.

शिवालिक की पहाड़ी

44.

बाणगंगा नदी

240 कि.मी.

बैराड़ पहाड़ी, जयपुर

45.

शिप्रा नदी

195 कि.मी.

ककड़ी बड़ली पहाड़ी, उज्जैन

46.

गंभीरी नदी

288 कि.मी.

अरावली पहाड़ी, कारौली (राजस्थान)

47.

हुगली नदी

260 कि.मी.

गंगाजी, मुर्शिदाबाद

48.

गंडक नदी

814 कि.मी.

धौलागिरी पर्वत

49.

तवा नदी

117 कि.मी.

महादेव पर्वत, मध्य प्रदेश

50.

पार्वती नदी

70 कि.मी.

विंध्याचल पर्वत श्रृंखला



इन्हें भी पढ़ें :- 

Leave a Comment