Bharat Ke Pramhuk Darre । भारत में स्थित प्रमुख दर्रो की सूची

Bharat Ke Pramhuk Darre । भारत में स्थित प्रमुख दर्रो की सूची

दर्रा किसे कहते हैं 

पहाड़ों एवं पर्वतों के बीच जिससे वह हमारे जिससे होकर पर्वतों को पार किया जाता है दर्रा कहलाता है पहाड़ों एवं पर्वतों के मध्य आवागमन के लिए पाए जाने वाले प्राकृतिक मार्गो को दर्रा कहते हैं जिससे होकर पहाड़ों को पार किया जाता है ये दर्रे व्यापार, परिवहन और मानवीय प्रवास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 


उत्तराखंड में स्थित प्रमुख दर्रे :-

माना दर्रा

माना दर्रा उत्तराखंड राज्य में भारत चीन सीमा पर स्थित एक महत्वपूर्ण हिमालयी दर्रा है यह दर्रा राष्ट्रीय राजमार्ग 58 का अंतिम छोर है तथा उत्तराखंड के माना गांव को तिब्बत से भी जोड़ता है इस दर्रे को माना-ला चिरबितया और डुंगरी ला के नाम से भी जाना जाता है।

यह दर्रा 5545 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


लिपुलेख दर्रा

भारत के उत्तराखंड में स्थित हिमालय क्षेत्र का एक पहाड़ी रहता है उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले और तिब्बत के न्गारी में स्थित है लिपुलेख दर्रा उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र को तिब्बत के पुरंग शहर से जोड़ता है यह दर्रा कैलाश व मानसरोवर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए उपयोग किया जाता है।

माना दर्रा उत्तराखंड राज्य में 5334 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


नीति दर्रा

यह दर्रा भारत के उत्तराखंड राज्य को तिब्बत से जोड़ता है।

नीति दर्रा उत्तराखंड राज्य के हिमालय क्षेत्र में 5068 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


जम्मू कश्मीर में स्थित प्रमुख दर्रे 

काराकोरम दर्रा 

काराकोरम दर्रा भारत के जम्मू कश्मीर काराकोरम पर्वत माला में स्थित एक पहाड़ी दर्रा है यह भारत का सबसे ऊंचा दर्रा है यह दर्रा पास के नियंत्रण में स्थित कश्मीर और चीन को आपस में जोड़ता है।

यह दर्रा समुद्र तल से 5654 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


जोजिला दर्रा

जोजिला दर्रा भारत के हिमालय क्षेत्र का एक उच्च पर्वतीय दर्रा है यह दरर भारत के लद्दाख क्षेत्र में स्थित है इस दर्रे को लद्दाख का प्रवेश द्वार भी कहते हैं।

जोजिला दर्रा समुद्र तल से 3528 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


बनिहाल दर्रा 

बनिहाल दर्रा जम्मू-कश्मीर के हिमालय क्षेत्र के पीर पंजाल पर्वत श्रृंखला पर स्थित है इसी दर्रे में भारत का सबसे लंबा सुरंग जवाहार सुरंग स्थित है समुद्र तल से 2832 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह दर्रा जम्मू को श्रीनगर से जोड़ता है।


पीर पंजाल दर्रा

यह दर्रा भारत के जम्मू कश्मीर के पीर पंजाल पर्वत माला में स्थित है यह दर्रा जम्मू के राजौरी और पुंछ जिले को कश्मीर घाटी से जोड़ता है।

यह दर्रा 3490 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


बुर्जीला दर्रा

भारत के जम्मू कश्मीर में स्थित यह दर्रा श्रीनगर को गिलगित से जोड़ता है।

यह दर्रा समुद्रतल से 4100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


हिमाचल प्रदेश में स्थित प्रमुख दर्रे

शिपकीला दर्रा 

भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य में स्थित शिपकी या शिपकीला दर्रा समुद्र तल से लगभग 4300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यह दर्रा हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले को तिब्बत के जान्दा जिले से जोड़ता है।

रोहतांग दर्रा

यह दर्रा भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य में पीर पंजाल पर्वत श्रेणी में कुल्लू घाटी लाहौल स्पीति घाटियों के बीच 3980 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

रोहतांग दर्रा हिमाचल प्रदेश के मनाली को लद्दाख के लेह से जोड़ता है।

बारालाचा दर्रा

बारालाचा दर्रा हिमाचल प्रदेश की लाहौल और स्पीति जिले में जंस्कार पर्वतमाला में स्थित एक पर्वतीय दर्रा है जो हिमाचल प्रदेश के लाहौर क्षेत्र को लद्दाख के लेह से जोड़ता है।

यह दर्रा समुद्र तल से लगभग 4845 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

अरूणाचल प्रदेश में स्थित प्रमुख दर्रे

दीफू दर्रा
दीफू दर्रा भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य और म्यांमार की सीमा पर स्थित है।

यांग्याप दर्रा

यांग्याप दर्रा भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य में भारत और तिब्बत की सीमा पर स्थित है अरुणाचल प्रदेश राज्य में स्थित इस दर्रे का विशेष महत्व है क्योंकि इसी दर्रे से होकर ब्रह्मपुत्र नदी भारत में प्रवेश करती है।

बोमडिला दर्रा

बोमडिला दर्रा भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य में समुद्र तल से लगभग 2217 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यह दर्रा अरुणाचल प्रदेश राज्य के तवांग को तिब्बत के ल्हासा से जोड़ता है।

भारत की प्रमुख झीलें

सिक्किम में स्थित प्रमुख दर्रे

नाथूला दर्रा

नाथूला दर्रा भारत के सिक्किम राज्य में स्थित एक पहाड़ी दर्रा है जो सिक्किम के डोगेक्या श्रेणी में 4310 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यह दर्रा सिक्किम राज्य को तिब्बत के चुंम्बी घाटी से जोड़ता है।

भारत और चीन की सीमा पर स्थित होने के कारण यह दर्रा भारत और चीन के बीच का एक प्रमुख व्यापार मार्ग है सन् 1962 में भारत और चीन के बीच हुए युद्ध के बाद इस दर्रे को बंद कर दिया गया था लेकिन वर्ष 2006 में व्यापार के लिए इसे पुनः खोल दिया गया वर्तमान समय में दोनों देशों के बीच होने वाले व्यापार का 80% इसी दर्रे से होता है।

जैलेप ला दर्रा

जेलेप ला दर्रा भारत का एक अद्भुत दर्रा है क्योंकि इसका निर्माण तीस्ता नदी के द्वारा हुआ है यह दर्रा भारत के सिक्किम राज्य और भूटान का आपस में जोड़ता है।

यह दर्रा समुद्र तल से लगभग 4270 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

केरल में स्थित प्रमुख दर्रे 

पालघाट दर्रा 

पालघाट दर्रा पालघाट दर्रा केरल के पश्चिमी घाट में  अन्नामलाई व नीलगिरी की पहाड़ियों के बीच स्थित एक पहाड़ी दर्रा है यह दर्रा केरल के कोझिकोड को तमिलनाडु के कोयंबटूर शहर से जोड़ता है।

यह दर्रा समुद्र तल से 300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


शेनकोट्टा दर्रा

यह दर्रा केरल की इलायची पहाड़ियों में 210 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है केरल में स्थित यह दर्रा केरल के तिरुवंतपुरम और तमिलनाडु के मदुरै शहर को आपस में जोड़ता है।

महाराष्ट्र में स्थित प्रमुख दर्रे

भोर घाट दर्रा

भोर घाट दर्रा भारत के पश्चिमी घाट के साह्याद्रि पर्वत श्रेणी में स्थित है यह दर्रा महाराष्ट्र के कर्जत और खांडला के बीच स्थित है भारत का राष्ट्रीय राजमार्ग 48 इसी दर्रे से होकर गुजरता है यह दर्रा मुंबई को कई शहरों से जोड़ता है।

भोरघाट दर्रा समुद्र तल से 548 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।


थाल घाट दर्रा

भारत के महाराष्ट्र राज्य में पश्चिमी घाट की पर्वत श्रेणियों में स्थित थाल घाट दर्रा प्रायद्वीपीय भारत का एक प्रमुख दर्रा है महाराष्ट्र के मुंबई शहर को नासिक से जोड़ता है।

मणिपुर में स्थित प्रमुख दर्रे

तुजू दर्रा

तुजू दर्रा मणिपुर राज्य में स्थित भारत का एक प्रमुख दर्रा है मणिपुर राज्य में स्थित यह दर्रा इम्फाल को म्यांमार से जोड़ता है।

इन्हें भी पढ़ें :-

भारत के प्रमुख लोकनृत्य और उनसे संबंधित राज्य

विश्व की 20 प्रमुख झीलें एवं उनसे संबंधित सभी जानकारी

Leave a Comment