भारत के राष्ट्रीय प्रतीक । National Symbol of India in Hindi

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक । National Symbol of India in Hindi

राष्ट्रीय चिन्ह / प्रतीक का महत्व :- 

राष्ट्रीय प्रतीक किसी भी देश की विशेष पहचान को दर्शाता है इसलिए प्रत्येक देश का अपना राष्ट्रीय चिन्ह या प्रतीक होता है किसी भी देश की पहचान उस देश के राष्ट्रीय प्रतीक से ही होती है जो उस देश को दूसरे से देशों से अलग बनाता है यह राष्ट्रीय प्रतीक उस देश की जनता की भावना को ध्यान में रखते हुए चुना जाता है प्रत्येक देश की राष्ट्रीय प्रतीक का अपना एक इतिहास, व्यक्तित्व और विशिष्टता होता है।

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक 

भारत का राष्ट्रीय ध्वज – तिरंगा

भारत का राष्ट्रीय ध्वज ‘ तिरंगा ‘ है इस ध्वज को पिंगली वेंकैया के द्वारा डिजाइन किया गया।
22 जुलाई 1947 को भारत के संविधान सभा द्वारा इस राष्ट्रीय ध्वज के डिजाइन को अपनाया गया।

भारत के राष्ट्रीय ध्वज की लंबाई तथा चौड़ाई का अनुपात 3:2 है इसमें समान अनुपात केसरिया, सफेद और हरे रंग की क्षैतिज पट्टियां होती है इनमें सबसे ऊपर केसरिया बीच में सफेद तथा नीचे हरा रंग होता है तीनों रंगों की समानता के कारण भारत के राष्ट्रीय ध्वज को तिरंगा कहा जाता है इस तिरंगे झंडे के मध्य में एक चक्र होता है जिसका आकार सफेद पट्टी की चौड़ाई के बराबर होता है इस चक्र में 24 तिलियॉं होती है और यह नीले रंग का होता है यह चक्र सारनाथ में सम्राट अशोक के द्वारा स्थापित अशोक स्तंभ से लिया गया है। 

भारत के राष्ट्रीय ध्वज के रंगों का महत्त्व :- भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे में केसरिया रंग भारत के ताकत और साहस को दर्शाता इस रंग को त्याग और बलिदान का प्रतीक माना जाता है सफेद रंग सत्य, शांति और पवित्रता को दर्शाता है जबकि इस तिरंगे के नीचले हिस्से में स्थित नीला रंग देश की समृद्धि का प्रतीक है। 

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह – अशोक स्तंभ

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह अशोक स्तंभ है इस चिन्ह को मौर्य साम्राज्य के सबसे महान शासक सम्राट अशोक के द्वारा बनाए गए स्तंभ से लिया गया है इस स्तंभ में चार शेर हैं जो चार दिशाओं में मुंह किए खड़े हैं इसके साथ ही इसमें एक गोल आधार है इस गोलाकार आधार की आकृति एक खिले हुए उल्टे लटके कमल के रूप में है इसमें एक हाथी, एक सांड एक दौड़ता हुआ घोड़ा और एक सिंह की आकृति बना हुआ है।

इस स्तंभ का आदर्श वाक्य ‘ सत्यमेव जयते ‘ हैं इसे मूल रूप से मुंडकोपनिषद से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘ सत्य की ही विजय होती है ‘ यह वाक्य देवनागरी लिपि में अंकित है।

26 जनवरी 1950, को अशोक स्तंभ को आधिकारिक रूप से भारत के राष्ट्रीय चिन्ह के रूप में अपनाया गया।

भारत का सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार – भारत रत्न

भारत रत्न भारत का सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार है इस पुरस्कार की शुरुआत 2 जनवरी 1954 को भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद के द्वारा की गई थी।
भारत के सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार भारत रत्न से उन लोगों को सम्मानित किया जाता है जो भारत के राष्ट्रीय सेवा में असाधारण कार्य करते हैं
साहित्य, विज्ञान, कला, खेल और सार्वजनिक क्षेत्र में अपनी असाधारण सेवा देने वाले व्यक्ति को यह पुरस्कार दिया जाता है। इसमें पुरस्कार प्राप्तकर्ता को पुरस्कार के रूप में एक प्रमाण पत्र और एक पदक दिया जाता है।

इस पदक का आकार पीपल के पत्ते के आकार का होता है जिसके ऊपर भारत रत्न लिखा होता है।
डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को सर्वप्रथम भारत रत्न से सम्मानित किया गया वह यह पुरस्कार पाने वाले प्रथम व्यक्ति है।


भारत का राष्ट्रीय गान – जन-गण-मन

भारत का राष्ट्रीय गान जन गण मन है इस गान को 27 सितंबर 1911 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन में पहली बार गाया गया था यह गान मूल रूप से बंगाली भाषा में रचित है इस गान के रचयिता रविंद्रनाथ टैगोर है इस संपूर्ण गान को गाने में 52 या 53 सेकंड का समय लगता है।

24 जनवरी 1950 को जन गण मन को भारतीय संविधान सभा द्वारा भारत के राष्ट्रीय गान के रूप में अपनाया गया।


भारत का राष्ट्रीय गीत – वन्दे मातरम्भा

भारत का राष्ट्रीय गीत ‘ वंदे मातरम ‘ है इस गीत के रचयिता बंकिमचंद्र चटर्जी है उन्होंने इस गीत की रचना संस्कृत में की थी। इस गीत को भारत के राष्ट्रगान के समान दर्जा दिया गया है।

24 जनवरी 1950, को वंदे मातरम को राष्ट्रीय गीत के रूप में अपनाया गया इस गीत को पहली बार सन् 1970 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक अधिवेशन में गाया गया था।


भारत का राष्ट्रीय फूल – कमल

कमल, भारत का राष्ट्रीय फूल है इसका स्वरूप अत्यंत आकर्षक होता है अति प्राचीन काल से कमल भारतीय संस्कृति का मांगलिक प्रतीक रहा है जिसके कारण कमल को एक पवित्र पुष्प माना जाता है भारत के पौराणिक ग्रंथों में कमल को पवित्रता और वैभवता का प्रतीक माना गया है यही कारण है कि हिंदू धर्म के अधिकांश देवी – देवता कमल का पुष्प धारण किए हुए रहते हैं। इसके अतिरिक्त कमल के फूलों का प्रयोग आयुर्वेदिक तथा एलोपैथिक औषधियों के निर्माण के लिए भी किया जाता है।

भारत का राष्ट्रीय फल – आम

भारत का राष्ट्रीय फल ‘ आम ‘ है। वर्ष 1966 में भारत सरकार द्वारा आम को भारत काए राष्ट्रीय फल के रूप में अंगीकृत किया गया।
आम को सभी फलों का राजा कहा जाता है आम का वैज्ञानिक नाम ‘ मेंगिफेरा इंडिका ‘ है।

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष – बरगद का पेड़ 

बरगद के पेड़, को भारत के राष्ट्रीय वृक्ष का दर्जा दिया गया है इस वृक्ष को एकता एवं दृढ़ता का प्रतीक माना जाता है जिस प्रकार किसी देश में विभिन्न जाति और धर्म के लोग निवास करते हैं उसी प्रकार इस वृक्ष में कई प्रकार के पक्षियों और जीव निवास करते हैं।

इसे वट वृक्ष के नाम से भी जाना जाता है बरगद के पेड़ का हिंदू धर्म में अपना एक विशेष धार्मिक महत्त्व है यही कारण है कि इस वृक्ष को हिंदू धर्म का सबसे पवित्र वृक्ष माना जाता है इसके अतिरिक्त बरगद के वृक्ष में कई औषधीय गुण भी पाए जाते हैं।


भारत का राष्ट्रीय पशु – बाघ

आजादी के बाद शेर को भारत का राष्ट्रीय पशु घोषित किया गया था लेकिन अप्रैल 1973 में बाघ को राष्ट्रीय पशु घोषित किया गया इसे रॉयल बंगाल टाइगर भी कहा जाता है बाघ को भारत का राष्ट्रीय पशु घोषित करने का कारण उसकी तेज फुर्ति तथा शक्ति है जंतु जगत में बाघ को ‘ पैंथरा टाइग्रिस ‘ कहा जाता है इसे सामान्य भाषा में बाघ का वैज्ञानिक नाम भी कहा जाता है।

भारत का राष्ट्रीय पक्षी – मोर

मोर , एक अत्यंत सुंदर और आकर्षक पक्षी है जो अधिकांश दक्षिण एशिया में पाया जाता है मोर की सुंदरता के कारण ही मोर को भारत का राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया है।

26 जनवरी 1963 को मोर को भारत का राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया मोर को संस्कृत भाषा में मयूर कहा जाता है हिंदू धर्म में मोर को भगवान मुर्गा का वाहन माना जाता है जंतु जगत के अनुसार मोर का वैज्ञानिक नाम ‘ पावो क्रिस्टेटस ‘ है।

भारत की राष्ट्रीय लिपि – देवनागरी

भारतीय संविधान के अनुच्छेद , 343 (1) के अनुसार देवनागरी लिपि में लिखी, हिंदी भाषा को भारत की अधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया जिसके कारण देवनागरी को भारत की राष्ट्रीय लिपि कहा जाता है

भारत की राजभाषा या राष्ट्रीय भाषा – हिन्दी

भारत सरकार के द्वारा किसी भी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा नहीं दिया गया है भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा का कोई भी उल्लेख नहीं है भारत की कोई भी राष्ट्रभाषा नहीं है जबकि भारत की राजभाषा हिंदी है।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343 के अनुसार हिंदी को भारत की राजभाषा का दर्जा दिया गया है न कि राष्ट्रभाषा का।
राजभाषा का अर्थ जिस भाषा का प्रयोग राज्य के कामकाज में किया जाता है वर्तमान समय में राजभाषा का अर्थ है सरकारी कार्यों के लिए उपयोग की जाने वाली भाषा हिंदी अतिरिक्त भारत में सरकारी कामकाज के लिए अंग्रेजी का भी प्रयोग किया जाता है।

जबकि 22 भाषाओं को आधिकारिक तौर पर संविधान द्वारा आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया है।

भारत की राष्ट्रीय मिठाई – जिलेबी

अधिकांश लोगों एवं वेब पोर्टल मे जिलेबी को भारत का राष्ट्रीय मिठाई माना जाता है परंतु सरकार द्वारा इसका कोई भी अधिकारिक विवरण नहीं है अतः यह कहना उचित होगा कि भारत की कोई भी मिठाई, राष्ट्रीय मिठाई नहीं है।

भारत का राष्ट्रीय खेल – हॉकी

हॉकी को भारत के राष्ट्रीय खेल का दर्जा दिया गया कहा जाता है कि जब से भारत ने ओलंपिक के खेल में हॉकी में लगातार छह स्वर्ण पदक जीते तब से हॉकी को भारत का राष्ट्रीय खेल माना जाने लगा लेकिन खेल मंत्रालय के द्वारा किसी भी खेल को राष्ट्रीय खेल का दर्जा नहीं दिया गया है।


भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर – शक संवत

भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर या राष्ट्रीय पंचांग शक संवत है वर्ष 1957 में भारत सरकार द्वारा शक संवत को भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर घोषित किया गया।
चैत्र , भारतीय राष्ट्रीय कैलेंडर प्रथम माह है इस माह में 30 दिन होते हैं शक संवत की तिथियां ग्रेगोरियन कैलेंडर से स्थाई रूप से मिलती जुलती है इसी कारण भारत के राजपत्र, आकाशवाणी और संचार विज्ञप्तियो में ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ इस कैलेंडर का भी प्रयोग किया जाता है।


भारत का राष्ट्रीय जलीय जीव – डॉल्फिन

18 मई 2010 को भारत के पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ने गंगा नदी में पाई जाने वाली सबसे दुर्लभ प्रजाति में शामिल जलीय जीव डॉल्फिन को भारत का राष्ट्रीय जलीय जीव घोषित किया भारत सरकार के द्वारा इस जीव को वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत वन्य जीव संरक्षण श्रेणी के प्राणियों में शामिल किया गया है।

वर्तमान में डॉल्फिन एक संकटग्रस्त जीव है जो विलुप्त होने के कगार पर है यह जीव मीठे एवं अत्यंत साफ-सुथरे पानी में रहती है क्योंकि यह केवल साफ और शुद्ध पानी में ही जीवित रह सकती है।


भारत की राष्ट्रीय नदी – गंगा नदी

भारत की राष्ट्रीय नदी , गंगा नदी है गंगा नदी भारत की सबसे लंबी एवं सबसे पवित्र नदी है। इस नदी की कुल लंबाई 2525 कि.मी. है जिसमें से भारत में इसकी लंबाई 2071 है तथा इसका शेष भाग बांग्लादेश में है।

भारत में सतोपथ हिमानी से निकली अलकनंदा नदी और गढ़वाल हिमालय की गोमुख से निकली भागीरथी नदी जल देवप्रयाग में मिलती है इन दोनों नदियों के संयुक्त रूप को ही गंगा नदी के नाम से जाना जाता है अलकनंदा नदी की दो प्रमुख सहायक नदियां पिंडार नदी और मंदाकिनी नदी है।


भारत की राष्ट्रीय मुद्रा – रुपया

आधिकारिक रूप से भारत की राष्ट्रीय मुद्रा भारतीय रुपया है 5 जुलाई 2010 को भारत सरकार द्वारा भारतीय रुपया के चिन्ह को जारी किया गया था भारत की आधिकारिक मुद्रा भारतीय रुप‌ए का प्रतीकात्मक चिन्ह है – ₹ 

भारतीय मुद्रा से संबंधित सभी मुद्दों को भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा नियंत्रित किया जाता है भारतीय रुपया का अंतरराष्ट्रीय कोड – ( INR ) है।

भारत के राष्ट्रपिता या राष्ट्रीयपिता – महात्मा गांधी

महात्मा गांधी को भारत का राष्ट्रपिता कहा जाता है 6 जुलाई 1944 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने सिंगापुर रेडियो स्टेशन से संदेश प्रसारित करते हुए सर्वप्रथम महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता कहकर संबोधित किया था।

इसके पश्चात 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे द्वारा महात्मा गांधी की हत्या के बाद जब भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने देश की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि ‘ राष्ट्रपिता आप नहीं रहे ‘ तब से महात्मा गांधी को भारत का राष्ट्रपिता कहा जाने लगा। 

लेकिन भारतीय संविधान के अनुसार आधिकारिक रूप से किसी को भी राष्ट्रपिता की उपाधि नहीं दी गई है।

भारत का राष्ट्रीय दिवस – स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और महात्मा गांधी का जन्मदिन

स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और महात्मा गांधी जयंती को भारत के राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है।
15 अगस्त को भारतीय स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन 15 अगस्त 1947 को भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी।
26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि स्वतंत्रता के बाद इसी दिन 26 जनवरी 1950 को भारत को अपना संविधान प्राप्त हुआ।
जबकि 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन 1869 को गुजरात के पोरबंदर में भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। 
इस कारण इन तीनों दिवस को भारत के राष्ट्रीय पर्व के रूप में भी मनाया जाता है।


भारत का राष्ट्रीय विरासत पशु – हाथी 

हाथियों की घटती जनसंख्या को देखते हुए उनके बचाव के उद्देश्य से अक्टूबर 2010 में भारत के तत्कालीन केंद्रीय वन और पर्यावरण मंत्रीजयराम रमेश ने हाथी को भारत का राष्ट्रीय विरासत पशु घोषित किया।
उस समय हाथी को विरासत पशु घोषित करने का हाथियों के संरक्षण हेतु उचित योजना बनाकर हाथियों का बचाव करना था।


इन्हें भी पढ़ें :- 




Leave a Comment

close